ये है विश्व का सबसे बेहतरीन नोट, ना फटता है… ना गलता है, नकली नोट बनाना है नामुमकिन

करारे नोट हर किसी को अच्छे लगते हैं, फिर भले ही वो भारतीय रुपए हों या किसी दूसरे देश के नोट।

भारत के नोट जिस कागज से तैयार किए जाते हैं, उसे कपास से बनाया जाता है। इन नोटों की छपाई में विशेष तरह की इंक (स्याही) और कागज का इस्तेमाल होता है। भारतीय रुपए का कागज इतना मजबूत होता है कि अगर इसके दोनों सिरों को खींचकर आप फाड़ने की कोशिश करें तो नोट नहीं फटेगा। लेकिन क्या आप जानते हैं दुनिया का सबसे बेहतरीन और एडवांस्ड नोट किस देश का है?

दुनिया का सबसे एडवांस्ड नोट ऑस्ट्रेलिया ने तैयार किया है। इस नोट की सबसे बड़ी खासियत ये है कि आप इसके आर-पार देख सकते हैं। ऑस्ट्रेलिया का 5 डॉलर वाला नोट पूरी तरह वॉटर प्रूफ है, यानि पानी में कई घंटे रहने के बाद भी इस नोट पर कोई फर्क नहीं पड़ता, जबकि भारतीय रुपए के छोटे नोट पानी में पड़ने के कारण अक्सर गल जाते हैं। चूंकि भारतीय नोटों की छपाई में इस्तेमाल होने वाले कागज में कपास का इस्तेमाल किया जाता है, इसलिए ये नोट नमी सोख लेते हैं।

वहीं ऑस्ट्रेलियन डॉलर पर नमी और धूल का भी असर नहीं होता। सालों बाद भी ये नोट बिल्कुल नए और चमकदार दिखते हैं। ऑस्ट्रेलियाई सरकार का ये भी दावा है कि इस नोट के सिक्योरिटी फीचर्स काॅपी करना बहुत ज्यादा मुश्किल है, जिससे जाली नोटों बनाना लगभग नामुमकिन है। पॉलिमर से बना ये नोट छूने में एकदम मोम की तरह लगता है, लेकिन ये नोट मुलायम नहीं बल्कि कड़क होता है। वहीं, भारतीय नोटों की चमक समय के साथ घटती जाती है।

इस नोट की एक ओर खासियत इसकी रोलिंग कलर इफेक्ट है। मतलब साफ है कि आप जब इसे किसी भी तरह से घुमाकर देखेंगे तो आपको एक पूर्वी स्पाइनबिल (एक देशी पक्षी) की छवि भी दिखाई देगी जो उसके पंखों और रंग बदलती है। रिजर्व बैंक ऑफ ऑस्ट्रेलिया 2015 में नोट पर एक स्पेशल महसूस होने वाला फीचर्स लेकर आया था। इससे ब्लाइंड छूकर नोट को महसूस कर सकता है। ऑस्ट्रेलिया सन 1988 से पॉलिमर वाले नोट बना रहा है। इसके बाद अब इस टेक्नोलॉजी को कनाडा, यूके और वियतनाम ने भी इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *