गिरिराज सिंह का सवाल, कठुआ पर मोमबत्ती वाले मदरसे पर खामोश क्यों

गिरिराज सिंह का सवाल, कठुआ पर मोमबत्ती वाले मदरसे पर खामोश क्यों

मदरसे में मासूम के साथ हुए घिनोने कृत्य के बाद केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने मदरसे में बच्ची के साथ हुई इस घटना पर सवाल उठाए हैं. गिरिराज ने कहा कि इस घटना के बाद कठुआ की घटना की निंदा करने वाले लोग मोमबत्ती के साथ आगे क्यों नही आ रहे हैं. नवादा से बीजेपी सांसद ने कहा कि कठुआ की घटना के बाद यह वही लोग हैं जो एक ही जगह पर एक ही साथ टी-शर्ट और कैंडल के साथ प्रदर्शन करते हैं. उनके और उनके जैसे लोगों की मोमबत्ती कहां गुम हो जाती है जब गीता जैसी बच्ची के साथ मदरसे में उत्पीड़न होता है. ऐसी घटना होने के बाद भी क्या कोई बहस चलती है, रोड पर लोग निकलते हैं? यह देश के लिए घातक है और ये लोग गलतफहमी में ना रहें कि उनकी जुबान तगड़ी है और इन लोगों की जुबान कमजोर है. उन्होंने कहा कि जिन्ना के समर्थक अपना समर्थन अपने पास रखें. ऐसे लोगों का मंसूबा कभी भी पूरा नहीं होगा.

इसे भि पढ़े – अहम मुद्दों पर चीन से बातचीत कर पीएम लौट रहे है वतन आप भी पढ़े क्या है वह मुद्दे

नवादा पहुंचे गिरिराज ने राहुल गांधी पर हमला बोलते हुए कहा कि राहुल गांधी और ओवैसी की मानसिकता में समानता है. दोनों राष्ट्रगान और राष्ट्रगीत पर बैठे रह जाते हैं. राष्ट्रभक्ति का सम्मान दोनों में ही नहीं दिखता है जो कि देश के लिए दुर्भाग्य और दुखद है. राहुल भी देशभक्ति और राष्ट्रभक्ति की भावना नहीं दिखाते हैं. राहुल की मानसिकता में भी वही भाव दिखता है जो ओवैसी के मन में है. उन्होंने कहा कि ओवैसी भी कभी राष्ट्रगान और राष्ट्रगीत के प्रति कभी सम्मान में खड़े नहीं दिखे हैं. यह दिखाता है कि राहुल और ओवैसी की मानसिकता में समानता है. गौरतलब है कि  गाजियाबाद के अर्थला स्थित मदरसे में 11 साल की बच्ची से रेप का किया गया है और इस बार ये दरिंदगी खुद मौलवी ने की जिसे फ़िलहाल हिरासत में ले लिया गया है.

मौलवी के खिलाफ पॉक्सो ऐक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है कर लिया है. इस घटना का मुख्य नाबालिग (17) आरोपी पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है. लड़की का 21 अप्रैल को दिल्ली के गाजीपुर से अपहरण किया गया था जो  रविवार को दिल्ली से सटे साहिबाबाद के मदरसे में मिली थी. बच्ची ने मैजिस्ट्रेट को बताया कि 21 अप्रैल को दुकान जाने के लिए घर से बाहर निकली थी, तभी उसे पड़ोस की लड़की मिली, जिसने उससे एक दोस्त से मिलवाने के लिए बुलाया. यह वही नाबालिग था, जो उसे मदरसे तक लेकर गया था. साहिबाबाद पुलिस के मुताबिक, मौलवी का नाम गुलाम सादिक है, जो बिहार का रहने वाला है. उसकी उम्र 35 से 40 साल के बीच है. वह मदरसे में कई साल से है, जिसमें करीब 100 बच्चे तालीम के लिए आते हैं और 10 बच्चे मदरसे में ही रहते हैं.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *